Adsence coad Hindi Poem On Diwali | Ojhalpoetry

शनिवार, 14 नवंबर 2020

Hindi Poem On Diwali

Hindi Poem On Diwali, दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें , हैप्पी दिवाली , Happy diwali,



Hindi Poem On Diwali


💥💥💥💥💥💥💥💥

बुझी हुई इन बाती को ज्वाला से अंकित करते हैं...
जगमगाती इस रात को ह्रदय में संचित करते हैं...
चटकी कलियों सी फुलझड़ियों मुस्कान तरल भर देती है...
दीपों के अधरों पर बैठी लौ सम्बंध सरल कर देती है...
आने वाले प्रभु की प्रत्याशा भरत अंचित करते है...
जगमगाती इस रात को ह्रदय में संचित करते हैं...

Happy Diwali 


कई रात गुमसुम गई जो कई दिनों में दिन आया...
अबधपुरी में रामराज्य का फिर शुभ पलछिन आया...
प्रभु के आने की खुशी में हम हर वर्ष दीप जलाते हैं...
दीपों की उस लौ में बस हम अंधकार  पिघलाते हैं...
इक इक दीपक दिव्य प्रकाश को इंगित करते हैं...
जगमगाती इस रात को ह्रदय में संचित करते ...

💥💥💥💥💥💥



Happy Diwali


bujhee huee in baatee ko jvaala se ankit karate hain...
jagamagaatee is raat ko hraday mein sanchit karate hain...
chatakee kaliyon see phulajhadiyon muskaan taral bhar detee hai...
deepon ke adharon par baithee lau sambandh saral kar detee hai...
aane vaale prabhu kee pratyaasha bharat anchit karate hai..
jagamagaatee is raat ko hraday mein sanchit karate hain...
kaee raat gumasum gaee jo kaee dinon mein din aaya...
abadhapuree mein raamaraajy ka phir shubh palachhin aaya...
prabhu ke aane kee khushee mein ham har varsh deep jalaate hain...
deepon kee us lau mein bas ham andhakaar  pighalaate hain...
ik ik deepak divy prakaash ko ingit karate hain...
jagamagaatee is raat ko hraday mein sanchit karate ...



दीवाली की हार्दिक शुभकामनायें 




Dev tripathi

Author & Editor

Has laoreet percipitur ad. Vide interesset in mei, no his legimus verterem. Et nostrum imperdiet appellantur usu, mnesarchum referrentur id vim.

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें