Adsence coad Teachers day Hindi poem | Ojhalpoetry

शुक्रवार, 4 सितंबर 2020

Teachers day Hindi poem

Teachers day Hindi poem, शिक्षक दिवस पर कविता , Happy Teachers day, Poem for Teacher in Hinglish,About teachers in Hindi by Poem


Teachers day Hindi poem 

💓💓💓💓💓💓

अक्षर अक्षर जोड़कर मुझको शब्द बनाया है
मेरी मति पर कूची फेरी और वेमोल बनाया है
मंजिल के वीराने पथ पर द्रोणा सी पहचान उनकी
हर success के पन्ने रचती स्याही सी पहचान उनकी
सम्पूर्ण ज्ञान के दरिया का मांझी है मेरे टीचर्स 
मेरे अंधियारे जीवन को रौशन करते हैं मेरे टीचर्स

shayari on teacher in hindi
शिक्षक दिवस पर कविता 

डगमगाते पावों को मानो किसी ने थाम लिया
असमंजस की उथली राहों पर भी चलना सिखा दिया
हर बालक के स्मरणों में माँ बाप सी पहचान उनकी
जहरीले संसार में एक मधुकलश सी पहचान उनकी
हर success के बुनियादी पत्थर है मेरे टीचर्स
मेरे अंधियारे जीवन को रौशन करते हैं मेरे टीचर्स

अपने गुरु के लिए शायरी
Happy Teachers day


ज्ञान की अविरल धारा के संग अनुभव भी बतलाते है
विश्वास भरे भावों से मन में सफलदीप जलवाते है
आकाश में उड़ते पंछी के पंखों सी पहचान उनकी
भटके राही के आंखों में पली उम्मीदों सी पहचान उनकी
सही गलत के दोराहे पथ पर केशव है मेरे टीचर्स
मेरे अंधियारे जीवन को रौशन करते हैं मेरे टीचर्स


Poem for Teacher in Hinglish


akshar akshar jodakar mujhako shabd banaaya hai
meree mati par koochee pheree aur vemol banaaya hai
manjil ke veeraane path par drona see pahachaan unakee
har suchchaiss ke panne rachatee syaahee see pahachaan unakee
sampoorn gyaan ke dariya ka maanjhee hai mere teechars 
mere andhiyaare jeevan ko raushan karate hain mere teechars
dagamagaate paavon ko maano kisee ne thaam liya
asamanjas kee uthalee raahon par bhee chalana sikha diya
har baalak ke smaranon mein maan baap see pahachaan unakee
jahareele sansaar mein ek madhukalash see pahachaan unakee
har suchchaiss ke buniyaadee patthar hai mere teechars
mere andhiyaare jeevan ko raushan karate hain mere teechars
gyaan kee aviral dhaara ke sang anubhav bhee batalaate hai
vishvaas bhare bhaavon se man mein saphaladeep jalavaate hai
aakaash mein udate panchhee ke pankhon see pahachaan unakee
bhatake raahee ke aankhon mein palee ummeedon see pahachaan unakee
sahee galat ke doraahe path par keshav hai mere teechars
mere andhiyaare jeevan ko raushan karate hain mere teechars


shikshak diwas par poem
About teachers in Hindi by Poem

 

Dev tripathi

Author & Editor

Has laoreet percipitur ad. Vide interesset in mei, no his legimus verterem. Et nostrum imperdiet appellantur usu, mnesarchum referrentur id vim.

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें